Vision, Mission & Objectives

Print

उच्च शिक्षा विभाग  की संदृष्टि (Vision)

उत्तराखण्ड को एक आदर्श राज्य के रूप में विकसित करना, जो अपने निवासियों हेतु अत्यन्त उच्च स्तर की शैक्षणिक उपलब्धियों का प्रवर्तन, कला, विज्ञान एवं संस्कृति का संपोषण, प्रत्येक व्यक्ति के व्यक्तित्व के उच्चतम उन्नयन का सुनिश्चयन, प्रत्येक की आवश्यकतानुसार  रोजगारपरक कौशलो  में समुचित प्रशिक्षण  के द्वारा निर्धनता एवं बेरोजगारी का उन्मूलन तथा राज्य के समेकित विकास में उत्कृष्ट शैक्षणिक एवं शोध  केन्द्रों की संवृद्धि और विज्ञान एवं तकनीकी के प्रयोग हेतु एक उचित परिवेश एवं अध:संरचना का सृजन करे।

 

उच्च शिक्षा विभाग का ध्येय (Mission)

  • माध्यमिक शिक्षा की प्राप्ति के उपरान्त युवाओं को आवश्यकता  एवं मांग के अनुसार गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराना, उन्हें सांस्कृतिक विरासत से परिचित कराना तथा शोधपरक विकास का प्रवर्तन करना, जिससे वह वैश्विक चुनौतियों का सामना कर सके।
  • पारम्परिक शिक्षा के साथ-साथ पेशेवर एवं रोजगारपरक पाठयक्रम संचालित करना। 
  • उत्तराखण्ड को ज्ञान के केन्द्र के रुप में विकसित कर एक जागृत व समृद्ध राज्य बनाना।
  • कला, संस्कृति एवं विज्ञान का विकास युवावर्ग के व्यकितत्व, सामाजिक एवं सांस्कृतिक विकास में निश्चित रूप में सहायक होगा, जिसमें सूचना एवं तकनीकी की महत्वपूर्ण भूमिका एवं स्थान होगा|

 

उच्च शिक्षा विभाग के उद्देश्य (Objectives)

  • 16 वर्षो तक की उम्र के समस्त बालक एवं बालिकाओं को प्राथमिक शिक्षा प्रदान करने के संवैधानिक दायित्व के अनुक्रम में उच्च गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को सुनिश्चित करना।
  • नवोदित ज्ञान अर्थव्यवस्था के लिये शिक्षित एवं कौशलयुक्त प्रशिक्षित मानव संपदा की बढ़ती हुर्इ मांग को पूरा करना।
  • राज्य में बेरोजगार युवाओं के लिये रोजगारपरक कौशलों में सुनिश्चित वृद्धि तथा प्रौढ़ एवं रोजगार प्राप्त कर्मचारियो के कौशल विकास में अभिवृद्धि हेतु विशिष्ट प्रशिक्षण उपलब्ध कराना।
  • गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा एवं शोध हेतु शिक्षण संस्थाओं की स्थापना में निजी विनियोग को आकर्षित करना।